Saturday, April 25, 2009

इक लाश - Ik Laash

-Ik Laash

_____
Rooh Chali Aaj
Apne Ghar ko
Chhor chali ik
Sureele swar ko.
_______Doondti hai
Woh majboot kandha,
Badi meharbaani unki..!!
Jinho ne
Zism ko
Is tarah
Majbooti se bandha........!!


Kya is liye?
KahiN uthh na jaaye??
_____Ganit kahiN..!!
Jaaydaad-khoroN ka,
Bigad na jaaye?

______Sheegrata chha jaye
Sirf Rone ka shagun bhar
Reh jaye!!!!!
Sab ki nazreiN.....
Us be-jaan laash per,
Woh padi hai
YuiN hi
ApnoN ke viswaas per!!

Rooh uski Tehal rahi hai
Dekh rahi hai
ApnoN ke taane-baane
Bun raheiN hai jo
Rahe the kabhi
jaane-siyaane.......
Pukaar raheiN haiN
Ik dooje ko
___Arey O........
KahaaN Chhupa rakha hai
karaar-nama !!
Bada hi
Khoosat tha..
Ye buddha
Bada hi tha khisyaana
Jate hue bhi
Nahi bata gaya
Uska Thikana......
Be-reham be-haya,
Thodi si bhi nahi thi
IsmeiN Daya?
Bibi Gurraayii !!
Idher-udher dekh chillayii
Jara jaldi kero
Laash pet se phool ayii !!
oh!!
Baad meiN usey yaad aayii
Usey toh bilkul
Chup rehna hai
Ik pati-vrata ka
Yahi toh Gehna hai....!!!!

Rooh ne li
Ik be-jaan si angraayii.....
Ik boond
sookhshm aankhoN se
Khud b khud
Chali aayii......


Ik booNd........
Sookhsm aankhoN se
Khud b khud
chali ayii...!!!


Harash





-इक लाश

_____रूह चली आज
अपने घर को
छोड़ चली इक
सुरीले स्वर को
_______दूंद्ती है
वो मजबूत कांधा,
बड़ी मेहरबानी उनकी..!!
जिन्होंने
जिस्म को
इस तरह
मजबूती से बाँधा ........!!

क्या इस लिए ?
कहीं उठ न जाए??
_____गणित कहीं..!!
जायदाद-खोरों का ,
बिगड़ न जाए ?

______शीघ्रता छा जाए
सिर्फ रोने का शगुन भर
रह जाये!!!!!
सब की नज़रें.....
उस बे-जान लाश पैर,
वो पड़ी है
यूँ ही
अपनों के विश्वास पर!!

रूह उसकी टहल रही है
देख रही है
अपनों के ताने-बाने
बुन रहे है जो
रहे थे कभी
जाने-सियाने.......
पुकार रहे हैं
इक दूजे को
___अरे ओ ........
कहाँ छुपा रखा है
करार-नामा !!
बड़ा ही
खूसट था ..
ये बुद्ध
बड़ा ही था खिसयाना
जाते हुए भी
नहीं बता गया
उसका ठिकाना......
बे-रहम बे-हया,
थोड़ी सी भी नहीं थी
इसमें दया ?
बीबी गुर्रायी !!!
इधर-उधर देख चिल्लायी
जरा जल्दी करो
लाश पेट से फूल आयी !!
ओह!!
बाद में उसे याद आयी
उसे तो बिलकुल
चुप रहना है
इक पति-व्रता का
यही तो इक गहना है....!!!!

रूह ने ली
इक बे-जान सी अंगडाई .....
इक बूँद
सूक्षम आँखों से
खुद ब खुद
चली आयी ......

इक बूँद ........
सूख्स्म आँखों से
खुद ब खुद
चली आयी ...!!!

हर्ष महाजन