Sunday, August 21, 2011

_____Chalo Delhi-chalo Delhi


Sansad dekh bhokhla gayi ab Anna ki Paari ko
Jab har Dhara Jan-Lokpal ki charhi hai ab ataari ko
Aisi gali bazar nahiN ab koi jahaN  avsad nahiN
Saansad hi sab kha rahe par janta ki parwaah nahiN

Nafrat ke ye sholey ab phir se kyuN yahaaN dhadhak rahe
Ye bhrashta-chaari dekh Anna ko aise kyuN ab bhadak rahe
Shakti jo ab hui  kunthhit thi jwala ban ab jaag uthhi
janta ab yuN  sar-hud laaNg delhi ko ab bhaag uthhi.

Jan-tantra hamara ban raha dhantantra aise haathoN ka
Bin Shiksha hi saansad yahaaN ab bhatore paisa laakhoN ka
Uttho sabhi  bujha do ab to lakdi apne chulhe ki
De do kuch din Anna ko ho jaayeaahuti bhooleh ki.

nirmaan Rashtra ka  phir se hamko dridta se karna hoga
Anna, bhim sabko sabko yahaaN par karmath.ta se ban.na hoga
In raajnitigyoN ko chun-chun ker hame badlna hoga
SaNvidhaan ke ujjwal panno per sakhti se chalna hoga.

BadliyaaN phir se Ghirne lagieN hai dekho ab akaash meiN
SaajisheiN bun rahe bhrashtachaari baithhe haiN is taak maiN
IsmeiN bhi haiN jhaank rahe ki mil jaaye raah ghotaale ki
BikeNge log kisht banegi swiss bank ke masaale ki.

Shoshan ki is chakki ko bas hamko hi badalna hoga
Majbooti se dattkar hamko jan-Lokpaal par chalna  hoga
Vishamta ke iss zeher ko hum jan-taakat se hata deNge
Niklo sab apne ghar se bhrashtachahriyoN se nipatna hoga.

Waqt ki pukaar hai Chalo Delhi Chalo Delhi
_______________________________

_______चलो दिल्ली ,चलो दिल्ली

संसद देख भोखला गयी अब अन्ना की पारी को
जब हर धारा जन-लोकपाल की चडी है अब अटारी को |
ऐसी गली बाजार नहीं अब  कोई जहां अवसाद नहीं
सांसद ही सब खा रहे पर  जनता की कोई परवाह नहीं |

नफरत के ये शोले अब, फिर से क्यूँ यहाँ  धधक रहे
ये भ्रष्टाचारी देख अन्ना को  ऐसे क्यूँ अब भड़क रहे
शक्ति जो अब हुई कुंठित थी ज्वाला बन अब जाग उठी
जनता अब यूँ सर-हद लांग दिल्ली को अब भाग उठी |

जन-तंत्र हमारा बन रहा है धनतंत्र ऐसे हाथों का
बिन शिक्षा ही  सांसद  यहाँ अब भटोरे पैसा लाखों का
उठो सभी भुझा दो अब तो लकड़ी अपने चूल्हे की
दे दो कुछ दिन अन्ना को हो जाए आहुति भूलेह की|

निर्माण राष्ट्र का फिर से हमको दृढ़ता से करना होगा
अन्ना, भीम सबको यहाँ पर कर्मठता से बनना  होगा
इन राजनीतिज्ञों को चुन-चुन कर हमें बदलना होगा
संविधान के उजवल पन्नों पर सख्ती से चलना होगा

बदलियाँ फिर से घिरने लगीं हैं देखो अब आकाश में
साजिशें बुन रहे भ्रष्टाचारी बैठे हैं अब इस ताक में
इसमें भी अब झाँक रहे, की मिल जाए राह घोटाले की
बिकेगे लोग किश्त बनेगी स्विस बैंक के मसाले की |

शोषण की इस चक्की को बस हमको ही बदलना होगा
मजबूती से डटकर हमको जन-लोकपाल पर चलना होगा
विषमता के इस ज़हर को अब हम जन-ताकत से हटा देंगे
निकलो अब सब अपने घर से भ्रष्टाचारिओं   को मिटा देंगे|

वक्त की पुकार ---चलो दिल्ली चलो दिल्ली