Saturday, May 12, 2012

सच कहूं कहानी आज समाप्त हो गयी

..

सच कहूं कहानी आज समाप्त हो गयी
पड़ोसन भई दीवानी संग रात हो गयी
बिन पिए यूँ टल्ली उसका हुस्न देखकर
ख्वाब-गाह में तारों की बारात हो गयी ।
थर्रा गया जो खुल गयी नींद अचानक
लगा कि दरअसल सुहागरात हो गयी ।
थी हुस्न-ए-वफ़ा आघोष में तसल्ली हुई
ये हाद्सा-ए-जफा रात बे-बात हो गयी ।

__________________हर्ष महाजन ।