Wednesday, May 16, 2012

तुमने अपना के भी मुझे !!!

मैंने
अपनी तमन्नाओं को
ज़ब्त से सजाया है !!
और
तुझे पाने के लिए ..
हर सुखन अपनाया है ।
कई बार .....
ये कहने को जुबां
तरसी है ..
कि
तुमने अपना के भी
मुझे !!!
नहीं अपनाया है !!!!

__हर्ष महाजन ।