Saturday, May 12, 2012

दोस्त बन उस शख्स ने मेरा वोट भी लिया

..

दोस्त बन उस शख्स ने मेरा वोट तक लिया
सर्दियों में उस वक़्त उसने कोट तक लिया
बेवकूफ था लुटा दिया उस शख्स पे ये सब
मेरी जायदाद थी बिकी उसका नोट तक लिया ।
वो चोर था इस बात का कोई इल्म न था मुझे
उस शख्स ने मेरे जिस्म से लंगोट तक लिया ।

_________________हर्ष महाजन