Saturday, October 6, 2012

घर की यादें एलान कर दीं

अमेरिका से वापिसी का इक लम्बा सफ़र .............
गम-ओ-खुशी का सफ़र मुबारक हो मोनिका महाजन अरोड़ा और कंवलजीत अरोड़ा जी |
__________________________________________________

घर की यादें एलान कर दीं,
रिश्तों में तूने जान भर दी |

भईया की उल्फत में दम था
पापा की आज आँखें नम थीं |

हवेली तूने आबाद कर दी ,
नए गीतों की इरशाद कर दी |

मम्मी के अरमानों पे तुमने
कसम से इक अहसान कर दी |

तेरी खुशी अब शहर-शहर में
सबने मिल के एलान कर दी |

'हर्ष' के दिल से बा-दम इबारत
ज़मीन-ए-हिंद पे कदम मुबारक |

गम उनका है जो छोड़ आये वहाँ पर
कुछ तो गलियाँ वीरान कर दीं |

घर की यादें एलान कर दीं,
रिश्तों में तूने जान भर दी |

__________हर्ष महाजन |