Thursday, May 30, 2013

तेरी जुल्फें यूँ शानों पे बिखर जाए भी तो क्या है



...

तेरी जुल्फें यूँ शानों पे बिखर जाएँ भी तो क्या है,
ये शौक तेरे दर पे ही निकल जाएँ भी तो क्या है |

ये मंजिल अब रुकी सी ये रुकी-रुकी सी शब् भी ,
अब ये मंजिलें हैं जानां निखर जाएँ भी तो क्या है |

गर तुम भी हम से खुश हो फिर ऐतराज़ भी कैसा,
फिर अपने भी खुशी में विफर जाएँ भी तो क्या है |

ये जो प्यास दी है तुमने अब बुझेगी किस तरह से ,
इन सिलसिलों में साँसे उखड जाएँ भी तो क्या है |

सदियों से दूर किये थे मुझे दिल की धडकनों से ,
चुपके से दिल में अब हम उतर जाएँ भी तो क्या है |

______________
हर्ष महाजन

Tuesday, May 28, 2013

काश उसने मुझे इस तरह जुदा न किया होता

...

काश उसने मुझे इस तरह जुदा न किया होता,
ले लिया था फैसला मगर बेहूदा न लिया होता |
पत्थर, जो अभी तक यहाँ दिल लिए घुमते थे,
मेरी तहरीरों को उन्होंने दर्द-शुदा न किया होता |

__________________हर्ष महाजन

Monday, May 27, 2013

लगता है हरसूं नीरसता छाने लगी है

...

लगता है हरसूं नीरसता छाने लगी है,
दोस्ती में कलियाँ मुरझाने लगी है |

क्या हुआ किस तरह हुआ क्यूँ हुआ,
मंच पर लिखी तहरीर बताने लगी है |

क्या लिखूं किस तरह लिखूं बताये कोई,
परेशानी, पेशानी पे नजर आने लगी है |

सच है ये या कमबख्त ये वहम है मेरा ,
नज़्म पर अब हर रीव्यु बताने लगी है |

यहाँ हर शख्स हमसफ़र तो नहीं फिर भी,
रफ्ता-रफ्ता हर मसलाहत गहराने लगी है |

कुछ वक़्त और इंतज़ार कर के देख ऐ 'हर्ष'
लम्हा-लम्हा मुश्किलात नजर आने लगी है |

______________हर्ष महाजन

Saturday, May 25, 2013

एक जोडी दशक पर बे-रोक किया राज़ उसने

....

एक जोडी दशक पर बे-रोक किया राज़ उसने,
मेरे हर शेर पर बे-वज़ह किया ऐतराज़ उसने |
बेरुखी भी यूँ हुई कि इल्म मेरा कराह ही उठा,
उठी जो साज़ पे मेरी धुन किया बे-साज़ उसने |

_____________________हर्ष महाजन

Friday, May 24, 2013

तेरी बेरुखी का सबब है क्या मेरा दिल से तुझको सलाम है


...

तेरी बेरुखी का सबब है क्या पर दिल से तुझको सलाम है,
मेरी ग़ज़लें क्या मेरे नग्में क्या मेरी नज्में सब तेरे नाम है |

मेरे ख्वाब अश्कों में ढलते क्यूँ  मेरे ग़म भी सारे मचलते क्यूँ,
मुझे फिर भी तुझसे गिला नहीं, दिल फ़कत तेरा गुलाम है |

मैं वो अश्क हूँ तेरी आँख का, जिसे ख्वाबों से है गिरा दिया,
मैं तो अब भी तेरी सुबह हूँ, न समझ तू ढलती ये शाम है |

तू है चाँद मैं हूँ फलक तेरा, तू है ज़िन्दगी मैं भी सांस हूँ ,
तू क्या जाने इश्क की इंतिहा , मेरा इश्क यूँ बदनाम है  |

तू दरिया में तूफ़ान अगर , मैं भी यादों का सैलाब इधर ,
तू जो बंद नशे की शीशी गर, ये शख्स उसमें भी जाम है |


________________हर्ष महाजन

तेरे ये अश्क जो महफ़िल में बन शराब चले

...

तेरे ये अश्क जो महफ़िल में बन शराब चले,
ये हुस्न जाम संग जो उठ के बन शबाब चले |
ये बज़्म ऐसी थी गिर-गिर के उठे शेर बहुत,
ये दिल जो क़त्ल हुए फिर वो बन कबाब चले |

______________हर्ष महाजन

Monday, May 20, 2013

गलियां हैं मुहब्बत की करें किन को अब शामिल

...

गलियां हैं मुहब्बत की करें किन को अब शामिल,
इंसान की नगरी है मगर इंसान नही काबिल |
किस्से जो मुहब्बत के हैं अब तहरीर बने हैं ,
दीवानों में सिमट गए हैं प्यार भरे वो दिल |

___________________हर्ष महाजन

जीयुं या न जीयूं अपने अहसास जगाता रहता हूँ

...

जीयुं या न जीयूं अपने अहसास जगाता रहता हूँ ,
भंवर बने न बने समंदर में तूफ़ान उठाता रहता हूँ |


___________________हर्ष महाजन

Sunday, May 19, 2013

लाश पे लम्बू लगाये कौन

...

लाश पे लम्बू लगाये कौन
__________________


इतनी कडकी छायी हमपे,
घर की छत संभाले कौन |

दो-दो बेटी शादी-शुदा अब ,
नौकरी छूटी बताये कौन |

खाने को अब दाना नहीं है ,
घर का खर्चा चलाये कौन |

मियाँ बीवी दर-दर भटकें,
शर्म से सबको बताये कौन |

चिंता आखिरी पल की अब तो ,
अब घर पे तम्बू लगाए कौन |

कोई जहाँ में नहीं है अपना ,
खोल के दिल अब दिखाए कौन |

बिटिया दोनों भाई नहीं अब,
लाश पे लम्बू लगाए कौन |

खुदा भी क्यूँ कर लाया हमको,
वो भी चुप है बताये कौन |

________हर्ष महाजन |

हो रही रुक्सत मेरी ये जान धाम को

...

हो रही रुक्सत मेरी ये जान धाम को ,
चढ़ा तू जितने फूल चढाने है शाम को |

उल्टे पाँव चल दिया जज़्बात छोड़ कर,
जी रहा था अब तलक मैं तेरे नाम को |

पीयूँगा आज जब तलक रूह मेरे पास है,
आओ पियेंगे भूल कर किस्से तमाम को |

देख रहा हूँ लाश मैं, मातम है शाम को ,
ये रूह तड़प के कह रही अब छोडो जाम को |

किरदार लाश का 'हर्ष' मुश्किल निभा सकूं ,
कोई और चेहरा ढूंढो निपटा ले ये काम को |


________________हर्ष महाजन

जो जुदा हुआ वो जालिम दिल जार-जार रोया

...

जो जुदा हुआ वो जालिम दिल जार-जार रोया,
दे दी कसम जो उसने फिर ऐतबार रोया |

ये है बे-अदब क्यूँ दुनिया देती है दिल पे छाले,
ज्यूँ बदलते देखा साहिल दिल बार-बार रोया |

तेरी आशिकी पे हमने जो ढेरों थे गीत गाये ,
मैं तो धीरे-धीरे तनहा हो-कर बे-जार रोया |

खाईं जो कसमें तूने मोड देंगे रुख हवा का ,
जो कुचलते देखे अरमां दिल बनके खार रोया |

मेरी इल्तजा पे तूने जो कफ़न उठा के देखा,
मैंने अलविदा किया जो कर-कर दीदार रोया |

________________हर्ष महाजन

Saturday, May 18, 2013

आँखों में अश्क दिल में तेरे इतना प्यार क्यूँ है

...

आँखों में अश्क दिल में तेरे इतना प्यार क्यूँ है,
मैं तो बे-वफ़ा हूँ फिर भी तुझे ऐतबार क्यूँ है |

मैं खुदा नहीं हूँ फिर भी तू करे है क्यूँ इबादत,
मैं हूँ गैर की अमानत फिर भी निसार क्यूँ हैं |

मैं ये जानता हूँ तूने की है बंदगी खुदा सी ,
मेरे दिल में जाने तुझपे इतना ये खार क्यूँ है |

मेरी इल्तजा है तुझसे मुझे इस तरह न देखो,
न बता सकूंगा तुझको वफ़ा से इनकार क्यूँ है |

मैं तो खुद भी हूँ परेशां तनहा सा हो गया हूँ ,
अब खुदा कहे फलक से इतना बीमार क्यूँ है |

__________________हर्ष महाजन

Friday, May 17, 2013

मेरे गुरु से पहली मुलाकात

...

वो अज़ीम शख्स मंच पर,
मुझे शायर कहने लगा |
मैं भीड़ में बगुले झांकता
यकदम......
आंसुओं में बहने लगा |
एक अद्भुत थी घटना ,
जिसे.. मैं सहने लगा |
फिर कुछ तारीफों के पुल
कुछ मेरी ही ग़ज़लें ..
और उनके मुखड़े बतियाने लगा
यूँ ही .......
इक इक कर
वो .....
मेरी धड़कने बढाने लगा |
मैं परेशां !!!!
मुझे बार-बार वो बुलाने लगा
नाम सुन !!!!!!!!
सर से पाँव तक
मुझे पसीना आने लगा |
देख मेरी हरकत ..
वो  मंच से
धीरे-धीरे नीचे आने लगा
ये हादसा अजीम था ....
मुझे तब से ....
मंच पर ले जाने लगा |
वो इक सुनहरा दिन  ...
जिस दिन से
'
हर्ष' उस शख्स का
अमूल्य
शिष्य कहलाने लगा |
वो 'चमन'
तब से ..
ये नया फूल
दिल से सहलाने लगा |
ये फूल बे-साख्ता
उस चमन में लहराने लगा |


___
हर्ष महाजन |

Thursday, May 16, 2013

इंसान जो किस्मत ढोता है ,फितरत से उसे वो भिगोता है

...

इंसान जो किस्मत ढोता है ,फितरत से उसे वो भिगोता है |
अपने को समंदर समझ के फिर नदिया में तन्हा रोता है |
रुतबा है अगर फूलों सा कभी तो महक कभी कम होती नहीं,
फितरत में तंज़ अगर शामिल तो महक भी संग-संग खोता है |

______________हर्ष महाजन

Wednesday, May 15, 2013

दर्द-ए-मोहब्बत खारिज है और दर्द-ए-वफ़ा भी खारिज है,

...

दर्द-ए-मोहब्बत खारिज है और दर्द-ए-वफ़ा भी खारिज है,
वो हुनर वफ़ा का क्या जाने, जो उम्मीद-ए-वफ़ा से खारिज है |

_________________________हर्ष महाजन

बर्बाद मोहब्बतां करने को बस एक ही कासिद यहाँ काफी है

...

बर्बाद मोहब्बतां करने को बस एक ही कासिद यहाँ काफी है,
हर प्यार पे कासिद राज़ करे अंजाम ऐ मोहब्बतां क्या होगा |

________________________हर्ष महाजन

Monday, May 13, 2013

इंतज़ार अब इस कदर महसूस होने लगा

...

इंतज़ार अब इस कदर महसूस होने लगा,
अपना वजूद भी साहिल पर खोने लगा |
ये सतयुग नहीं जो ज़िंदगी यूँ ही बाँधी जाए,
कलयुग है हर सुंदर लहर पर दिल मोहने लगा |

______________हर्ष महाजन

टूटे हुए अहसासों को दर-दर लिए घूम रहा हूँ मैं

...

टूटे हुए अहसासों को दर-दर लिए घूम रहा हूँ मैं,
कोई संग्रह्नीय वस्तु बना दे वो शख्स ढूंढ रहा मैं |

________________हर्ष महाजन

कितना असल ओ कितना सूद शेरों पे मेरे बाकी है

...

कितना असल ओ कितना सूद शेरों पे मेरे बाकी है,
पैमानों में नाप रहे वो , मसरूफ यहाँ हर साकी हैं |

__________________हर्ष महाजन

Saturday, May 11, 2013

किसी को तू मिली किसी के हिस्से तन्हाई




____________नज़्म ____________

किसी को तू मिली किसी के हिस्से तन्हाई
______________________________

ये मोहब्बत है तेरी माँ अभी भी जिंदा हूँ ,
तेरे सदके तेरे सदके तेरे सदके मेरी माँ |

मेरी दुनिया ही है रौशन तेरी यादों से यहाँ,
मन की आँखों से मैं देखूं तुझे हर पल मैं यहाँ |

ये हवाएं भी है दुश्मन चले आंधी की तरह ,
दीया मैं अब भी जलाता हूँ तू जलाए थी जहां |

मैं वो भूलूंगा कैसे दिन जो तूने दान दिए,
कफ़न को ओड़ के जो तूने मेरे काम किये

भीग जाती हैं ये पलकें कभी मैं तन्हा रहूँ ,
कुछ जो बातें अनकही हैं अब मैं किस से कहूँ ?

भंवर में कश्ती अब भी मेरी कभी आती है,
फलक से तेरी दुआ आज भी आ जाती है |

किसी को तू मिली किसी के हिस्से तन्हाई
मैं घर में छोटा था मेरे हिस्से तेरी याद आई..|

ये मोहब्बत है तेरी माँ अभी भी जिंदा हूँ ,
तेरे सदके तेरे सदके तेरे सदके मेरी माँ |

_____________
हर्ष महाजन

Tuesday, May 7, 2013

उनका ख्याल होटों से सर-ए-आम गुज़र गया

.....

उनका ख्याल होटों से सर-ए-आम गुज़र गया,
हुआ तो बेकरार मगर दिल से नाम उतर गया |

________________हर्ष महाजन

मेरी अदाओं को फकत खुदा ही जानता है

...

मेरी अदाओं को फकत खुदा ही जानता है,
तेरे दिए कांटें भी दिल फूल ही मानता है |

_______________हर्ष महाजन

जो शख्स दिल से नहीं दिमाग से निवेश करते है

...
जो शख्स दिल से नहीं दिमाग से निवेश करते है ,
वो शायरी के गुलदस्ते हमेशां खाली पेश करते हैं |

_______________हर्ष महाजन

किस अहाते मे कदम रख के चलते हो

...

किस अहाते मे कदम रख के चलते हो ,
खुद ही शर्त रखते हो फिर खुद हँसते हो |
कैसे भूल जाएँ वो शब-ओ-रोज़ की बातें,
प्यार भी करते हो फिर तन्हा तड़पते हो |

__________________हर्ष महाजन

Monday, May 6, 2013

ऐ मोहब्बत तेरी खातिर अपनी जाँ पे उतरे



...

ऐ मोहब्बत तेरी खातिर अपनी जाँ पे उतरे,
बे-ख़ौफ़ टूटी कश्ती दरिया में ले के उतरे |

सुफिआना ज़िंदगी है सुफिआना तेरा रस्ता,
हम चीर के भंवर को तेरी दास्ताँ पे उतरे |

मैं खड़ा हूँ सरहदों पे मन कैदी हो गया हैं,
ऐ खुदा इसकी खातिर अपने घर से उतरे |

ये विकारों के झमेले आ आ मुझ से खेलें,
हम खेल-खेल में इनको सागर में ले के उतरे |

___________हर्ष महाजन