Sunday, June 30, 2013

उसने मुझे अचानक दिल से यूँ उतार दिया

...

उसने मुझे अचानक दिल से यूँ उतार दिया,
पल में ज्यूँ अजनबियों में यूँ शुमार किया |
बिन बात के कोई यूँ ही रूठता नहीं है 'हर्ष',
मैं आईना था उसका,उसने भी नकार दिया |

__________________हर्ष महाजन

Wednesday, June 26, 2013

आज उन्होंने अपना ऐतराज़ बुड्डों पर थोप दिया

...

आज उन्होंने अपना ऐतराज़ बुड्डों पर थोप दिया,
कीमती जज़्ब-ओ-अंदाज़ उन चुनिंदों पर रोप दिया |
कैसे कहूँ लांग गए वो अपनी ही खींची लकीरों को,
बेवज़ह दर्दीला अहसास उन बाशिंदों को सौंप दिया |

_____________________हर्ष महाजन

Tuesday, June 25, 2013

मैं हूँ अलफ़ाज़ जुबां पर मैं तभी रुकता हूँ

...

मैं हूँ अलफ़ाज़ जुबां पर मैं तभी रुकता हूँ,
दर्द महसूस अगर हो तो मैं फिर बिकता हूँ |
यूँ ही क्यूँ पूछे कोई मेरी ग़ज़ल को यारों ,
मैं भी हालात की हर बात मगर लिखता हूँ |

__________________हर्ष महाजन

Monday, June 24, 2013

गुस्ताख़ ज़िन्दगी में इक भूल शुमार हो गयी

...

गुस्ताख़ ज़िन्दगी में इक भूल शुमार हो गयी |
बरसों छुपी इक दास्तां पल में अखबार हो गयी |

दवा वफ़ा की क्या करूँ वो ज़ुल्मों से महफूज़ हो,
परेशां हूँ मैं इस तरह ये नज़र दीवार हो गयी |

_______________________हर्ष महाजन

Thursday, June 20, 2013

महके तेरा नीरा ये जन्म रात-दिन |

जन्म०दिन की बहुत बहुत शुभकामनाएँ और बधाई! नीरा राजपाल जी
________________________________________________

...

तुम महसूस करो खुशियाँ रात-दिन,
महके तेरा नीरा ये जन्म रात-दिन |
बीती उम्र में देखे ज़ख्म तूने जो,
मरहम खुद ही खुदा देगा कहेगा ये लो ,
जो भी शख्स तेरी ज़िन्द में था राक्षस बना,
उनसे इक-इक ज़ख्म का हिसाब लेगा वो |

तेरे दामन में हर दाग खुद धोएगा,
वो खुदा जब फलक से उतरेगा एक दिन |
तुम महसूस करो खुशियाँ रात-दिन,
महके तेरा नीरा ये जन्म रात-दिन |


नीरा जी आपकी लेखनी सदा हमें भाती रहे ,
ज़िंदगी अनमोल आपकी सदा मुस्कराती रहे |


जन्म दिन मुबारक जन्म दिन मुबारक !!!

_____________हर्ष महाजन

Friday, June 14, 2013

मुझपे इल्जामे मोहब्बत की खबर रखते हैं

...

मुझपे इल्जामे मोहब्बत की खबर रखते हैं,
मेरी वो आँखों के ख्वाबों पे नजर रखते हैं |
मिले है चैन उन जुल्फों में ज्यूँ शजर है घना,
आते चुपचाप इधर नजर वो मगर रखते हैं |

_____________________हर्ष महाजन |

Thursday, June 13, 2013

हमने उन्हें हद्द तक चाहा भी मगर टूट गए

...

हमने उन्हें हद्द तक चाहा भी मगर टूट गए,
इश्क शुरू हुआ भी न था वो हमसे रूठ गए |

____________________हर्ष महाजन

Sunday, June 9, 2013

रात भर अश्क मोती बन निकले

...

रात भर अश्क मोती बन निकले,
ज्यूँ ही ख़्वाबों में तेरे हम निकले |
अश्क भर-भर नहला दिया तुमने,
तेरे दिल से जो बन के गम निकले |

__________हर्ष महाजन

Saturday, June 8, 2013

ज़िंदगी नासूर बनी हो मुझको ऐसा गम नहीं

.....

ज़िंदगी नासूर बनी हो मुझको ऐसा गम नहीं,
ज़िंदगी तेरी न हो अब मुझमें ऐसा दम नहीं |

तेरी खातिर छोड़ दिये अब दर्द के
वो फासले,
भूल गए अब ज़ख्मीं पल भूले मगर वो ज़ख्म नहीं |

आजकल शेरों में मेरे बेरुखी और रुसवाई,
जिस तरह ग़ज़लें उठीं तेरी, जहां थे हम नहीं |

हम चले महफ़िल से तेरी भूल कर सब अदावतें,
बह चुके अब अश्क इतने होती आखें नम नहीं |

रंग बिरंगी दुनिया में अब खुशियाँ सब बेरंग हुई,
इल्तजा ऐ खुदा उठा ले, कोई यहाँ हमदम नहीं |

____________________हर्ष महाजन

अदावतें=वैर

Wednesday, June 5, 2013

दुश्मनी भी शख्स खूब किया करते हैं

...

दुश्मनी भी शख्स खूब किया करते हैं
पछताते हैं फिर धूप लिया करते हैं |
फल से भरे शज़र झुक जाते है बहुत,
पत्थर खा के भी फल दिया करते हैं |

______________हर्ष महाजन

उम्र-भर जुल्फों तले जिनकी बंद कर आँखें सकूं पाता रहा

...

उम्र-भर जुल्फों तले जिनकी बंद कर आँखें सकूं पाता रहा,
उन्हें देखते ही जुल्फें शानों से अब वो हटा लिया करते हैं |

जिनको देखने भर से उनके चहरे पर आ जाती थी रौनक,
आजकल उनके शेरों को देख वो आंसू बहा लिया करते हैं |

___________________हर्ष महाजन |

Monday, June 3, 2013

प्यार पे पाबंदी उसका अपना अधिकार था,

...

प्यार पे पाबंदी उसका अपना अधिकार था,
मगर मैं सोचता हूँ उसका ज़हन बीमार था |
इंतज़ार था उसे शख्स वो लौटेगा तो ज़रूर,
भ्रम था उसका वो जहाँ था उसी का प्यार था |

______________हर्ष महाजन

कैसे कहूं 'हर्ष' मेरी ग़ज़लों का हासिल तुम ही तो हो

...

कैसे कहूं 'हर्ष' मेरी ग़ज़लों का हासिल तुम ही तो हो

ख़त जो भेजा था तुझे मैंने, उसे ज़रा मोड़ के देख |

________________हर्ष महाजन

शब्द तुम कुछ इस तरह कहो कि अहसास आँखों में उतर आयें

....

शब्द तुम कुछ इस तरह कहो कि अहसास आँखों में उतर आयें
शेर कलम से निकलता जाए और शब्द अश्कों से नितर जाएँ |

_____________________________हर्ष महाजन

Sunday, June 2, 2013

कुण्डलिया छंद


कुण्डलिया छंद

कुण्डलिया है जादुई, छन्द श्रेष्ठ श्रीमान|

दोहा रोला का मिलन, इसकी है पहिचान||
इसकी है पहिचान, मानते साहित सर्जक|
आदि-अंत सम-शब्द, साथ बनता ये सार्थक|
लल्ला चाहे और, चाहती इसको ललिया|
सब का है सिरमौर छन्द, प्यारे, कुण्डलिया||

__________ NAVIN C. CHATURVEDI


कुण्डलिया छन्द का विधान उदाहरण सहित

कुण्डलिया है जादुई
2112 2 212 = 13 मात्रा / अंत में लघु गुरु के साथ यति
छन्द श्रेष्ठ श्रीमान|
21 21 212 = 11 मात्रा / अंत में गुरु लघु
दोहा रोला का मिलन
22 22 2 111 = 13 मात्रा / अंत में लघु लघु लघु [प्रभाव लघु गुरु] के साथ यति
इसकी है पहिचान||
112 2 1121 = 11 मात्रा / अंत में गुरु लघु
इसकी है पहिचान,
112 2 1121 = 11 मात्रा / अंत में लघु के साथ यति
मानते साहित सर्जक|
212 211 211 = 13 मात्रा
आदि-अंत सम-शब्द,
21 21 11 21 = 11 मात्रा / अंत में लघु के साथ यति
साथ, बनता ये सार्थक|
21 112 2 211 = 13 मात्रा
लल्ला चाहे और
11 22 21 = 11 मात्रा / अंत में लघु के साथ यति
चाहती इसको ललिया|
212 112 112 = 13 मात्रा
सब का है सिरमौर
11 2 2 1121 = 11 मात्रा / अंत में लघु के साथ यति
छन्द प्यारे कुण्डलिया||
21 22 2112= 13 मात्रा

साभार

हर्ष महाजन

Saturday, June 1, 2013

ये कैसी नेमत है खुदा की उसमें जवानी संग नशा भी

.....

ये कैसी नेमत है खुदा की उसमें जवानी संग नशा भी ,
निगाहों से करती हैं लहू-लुहान नहीं खंज़र का पता भी |

________________________हर्ष महाजन

उसने वक़्त को बेअसर कर दिया कुछ इस तरह

....

उसने वक़्त को बेअसर कर दिया कुछ इस तरह,
रख पहलू में सर हर लिया दर्द कुछ जिस तरह |

बहुत रुलाया उसने मगर आज पलकें कुछ शांत हैं 
रखे लिए दामन में उसने अश्क मेरे कुछ इस तरह |

_________________हर्ष महाजन

मेरी जान भी गयी पर, उन्हें दर्द भी नहीं था

...

मेरी जान भी गयी पर, उन्हें दर्द भी नहीं था,
जिसे मुर्दा समझे थे सब उठेंगे उन्हें यकीं था |

मुझे करके अब क़त्ल फिर वो पता भी पूछते हैं,
अब हुए है दर-बदर वो जैसे मैं सर ज़मीं था |

______________हर्ष महाजन

लगता है कोई तसव्वुर से उतर गया मेरे

....

लगता है कोई तसव्वुर से उतर गया मेरे ,
बेवफ़ा था खामोशियों में बिखर गया मेरे |
जुल्फें कितनी ही बार संवारी होगी उसने ,
आज उसका दिल से ही जिकर गया मेरे |

______________हर्ष महाजन