Wednesday, February 29, 2012

चोर चोर कहने लगा होली का सरताज

चोर चोर कहने लगा होली का सरताज
गहरा रंग पड़ने लगा चल जल्दी से भाग
चल जल्दी से भाग वो आया हमें नहलाने 
हम तो फस गए भाई इस होली के बहाने
कहे "हर्ष" कविराय बचा लो रंग घनघोर
अनेक रंग मिला के आ रहा वो रंग चोर ।

_____________हर्ष महाजन

Tuesday, February 28, 2012

अंदाज़-ए-बयाँ से उनके दिल कायल हुआ जाता है

अंदाज़-ए-बयाँ से उनके दिल कायल हुआ जाता है
कुछ शाम ढली जाती है समाँ घायल हुआ जाता है ।

____________________हर्ष महाजन

कितने तलख अंदाज़ होते हैं तन्हायी के

कितने तलख अंदाज़ होते हैं तन्हायी के
पल-पल टीस देता है बन नोक-ए-खंज़र ।

__________________हर्ष महाजन

मेरी खताओं से "हर्ष" तुम इस तरह न रूठिए

मेरी खताओं से "हर्ष" तुम इस तरह न रूठिए,
किश्तों में खुदकशी का मज़ा हम से तो पूछिए ।

____________________हर्ष महाजन

जुल्फें वो सज के सँवारे तो कोई बात बने

जुल्फें वो सज के सँवारे तो कोई बात बने
रहे वो जज्बातों के सहारे तो कोई बात बने ।
या इलाही न छोड़ बैठूं मैं सब्र का दामन
वो उम्र अब संग गुजारे तो कोई बात बने ।

________________हर्ष महाजन

आँखों में दीवानगी भी इस कदर बदने लगी ,


आँखों में दीवानगी भी इस कदर बढ़ने लगी ,
अश्कों के समंदर में मोहब्बत भी जलने लगी  ।


_______________________हर्ष महाजन

आँखों देखे सारे मंज़र भूल गया



आँखों  देखे  सारे  मंज़र  भूल गया
लौटा तो अपना ही घर भूल गया  ।
_________हर्ष महाजन



Monday, February 27, 2012

उनके हुस्न के चर्चे सब जगह होते रहे

उनके हुस्न के चर्चे सब जगह होते रहे,
हम गुनाह करते रहे संग-संग रोते रहे ।

______________हर्ष महाजन

हायकू______दर्द-ए-दिल

हायकू______

दर्द-ए-दिल
अब दूंढ रहा है
बे-वफ़ा प्राणी ।

____हर्ष महाजन

हायकू____



बिकाऊ नहीं
इस जिंदगानी में
ये दिल मेरा ।

____हर्ष महाजन

हायकू __________आती है रोज़

आती है रोज़
जुल्फों को संवारती
खरीदे दिल ।

________हर्ष महाजन



________________________________________________________________
हिंदी में हायकू सिर्फ तीन पंक्तियों का होता है
पहली पंक्ति में पांच शब्द दूसरी में सात शब्द और अंतिम पंक्ति में भी पांच शब्द __ आधे शब्द या मात्राओ को नहीं गिना जाता........

_______________________________________________________________

हायकू ______मेरे अंगने


हायकू _____

मेरे अंगने

लुटा हर्ष-ए-दिल
गैरों के हाथ ।



_____हर्ष महाजन

जब वो अपने प्यार में सरताज हो गया

जब वो अपने प्यार में सरताज हो गया
दिलों की सेल लगायी तो बर्बाद हो गया ।

__________________हर्ष महाजन

Sunday, February 26, 2012

मैंने कुछ टूटे हुए अहसासों को बटोर के रखा है

मैंने कुछ टूटे हुए अहसासों को बटोर के रखा है,
शायद मिल जाए सौदागर कोई जो इन्हें जोड़ सके ।

___________________हर्ष महाजन

मेरी ज़िन्दगी का मुस्तकबिल तुम ही तो हो ऐ 'हर्ष'

मेरी ज़िन्दगी का मुस्तकबिल  तुम ही तो हो ऐ 'हर्ष',
क्या देना होगा मुझे भी इम्तिहान आखिरी डगर तक ।

________________________हर्ष महाजन

Saturday, February 25, 2012

ग़ज़ल शिल्प ज्ञान --2 ........नज़्म और ग़ज़ल

सभी मित्र जनों को हर्ष महाजन का आदाब ......आज आपसे हज़ल और नज़म के बारे में कुछ ज्ञान आपसे रूबरू शेयर करने की कोशिश करूंगा । उम्मीद है कामयाब हो सकूंगा ......

__________________ग़ज़ल और नज़म

कई बार सवाल आता है ....ग़ज़ल और नज़्म में क्या फरक है ...ये आन सा सवाल आज के कहने वालों के लिए ...रचनाकारों के लिए ...बहूत ही अहम माना जाता है ...और माकूल उत्तर नहीं मिल पाता ....और रचनाकारों में एक अधूरापन सा पैदा हो जाता है के इसमें क्या फरक है जो कविताकार या ग़ज़लकार होते हुए भी नहीं बता सकते ...और लेखन में व्सिह्वास की कमी आ जाती है .....मैं आज इसे यहाँ शेयर करने की कोशिश कर रहा हूँ ...
उर्दू poetry की दो फार्म हैं ग़ज़ल और नज़्म

पहले मैं ग़ज़ल की बात करूंगा ...इस विधा को मैं कम शब्दों में बताने की कोशिश करूंगा । बहूत से लेखक यहाँ है जो अछे ग़ज़लकार हैं उनके भी विचार सबको फायदा दे सकते हैं वो भी शेयर करें ।

ग़ज़ल में चार पांच शेर होते हैं
और हर शेर का मीटर सेम होता है ।
छंद सेम होता है ।
विषय अलग-अलग हो सकता है ।
पहले शेर को मतला कहते हैं ।
आखिरी शेर मक्ता होता है जिसमे शायर का pen नाम इस्तेमाल करता है इसे तखल्लुस कहते हैं ।
ग़ज़ल में discipline ज़रूरी है ।
इसमें काफिया और रदीफ़ होना ज़रूरी होता है ......काफिया sound पैदा करता है ....जिसे बहर कहते हैं ....जो इसे बान्द्ती है ।

रदीफ़ मिसरे के आखिर में बार बार repeating शब्द होते हैं ।

और ग़ज़ल के बारे में पहले काफी कुछ पहले भी बता चूका हूँ .......जिसे एक ग़ज़ल के माध्यम से बताने की एक कोशिश करता हूँ ..ये मेरी एक ग़ज़ल

__________ग़ज़ल

मेरे दिल की गहराइयों को न छूना
अकेला हूँ , तन्हाइयों को न छूना |

हर इक साज़ मेरे दिल का है टूटा
शिकिस्ताँ हैं शहनाईयों को न छूना |

निछावर है तुझ पे ये जाँ भी मगर अब
कभी दिल की बुराइयों का न छूना |

कहा था किसी ने कि शोला बदन हूँ
मुझे छू के रुसवाइयों लो न छूना |

तुम्हे ये गुमाँ है कि छू लोगे हर शै
अँधेरे में परछाइयों को न छूना |

_____हर्ष महाजन

beh'r
122-122-122-122

इसमें काफिया है ....

गहराइयों /तन्हाइयों /शेहनाइयों /बुराइयों /रुसवाइयों /परछाइयों

रदीफ़ है ....

न छूना ।

________________
नज़्म एक स्टोरी लिए हुए होती है पूरी नज़्म में subject matter ही होता है
उसमे शेर नहीं होते
उसमे rhyming हो भी सकती है और नहीं भी ...इसकी परिबाषा छोटी सी है

As the Nazm is objective in nature, it has to follow a single theme or topic throughout. Every verse of the Nazm is related to the same theme ...To understand one verse of a Nazm one must read the whole or at least the preceding part of the Nazm before that verse to have background knowledge ..Rhyming is an important but not a necessary element of Urdu poetry.....

अब नज़्म के बारे में आजकल हिंदी में काफी तरह की किस्मे पैदा हो चुकी हैं ....अकवितायें प्रभावी हो चुकी हैं धीरे धीरे उस बारे में बात की जायेगी ।

__________________अब दोनों का अंतर देख सकते हैं ........

जिस से समझने में आसानी हो सकती है ...

...

Almost all the other differences between the Nazm and the Ghazal are due to the difference in their nature (i.e. objectivity and the subjectivity). The Nazm can be as long or as short as the poet wants it to be, however usually the Ghazal is restricted to 8 to 10 verses.

As the Nazm is objective in nature, it has to follow a single theme or topic throughout. Every verse of the Nazm is related to the same theme. However, this is not true for the Ghazal. A Ghazal can point to different things in each of its couplet. Each couplet of a Ghazal can point to an entirely different theme or topic. To understand one verse of a Nazm one must read the whole or at least the preceding part of the Nazm before that verse to have background knowledge. However, each couplet of a Ghazal can be understood easily in isolation..

Rhyming is an important but not a necessary element of Urdu poetry. This fact is highlighted by another difference in the Nazm and the Ghazal. The Ghazal essentially has rhyming couplets. However, the verses of the Nazm may or may not rhyme strictly with each other. In fact this rhyming is the factor that binds different couplets of a Ghazal, which may have entirely different meanings otherwise.

मुझे उम्मीद है मैं ये सब समझाने सफल हुआ हूँ .....फिर भी किसी को कुछ और बताना हो तो शेयर कर सकते हैं ....जिस से सभी को फायदा हो सके ।

शुक्रिया

हर्ष महाजन

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

3/03/2012

क्रितिओं को प्रभावी किस तरह बनाया जाए .....इसमें कई बाते ध्यान रखने योग्य होती हैं ....खासकर ग़ज़लों में ...काफिया दुबारा repeat न हो तो जियादा बेहतर होगा....

जैसे मेरी ऊपर कही गयी ग़ज़ल में ...

मेरे दिल की गहराइयों को न छूना
अकेला हूँ , तन्हाइयों को न छूना |

काफिया गहराइयों /तन्हाइयों में ये शब्द अगले मिसरों में अगर repeat करेंगे तो उस तहरीर की जो गहरायी कम होगी...शब्दों को कभी दुबारा इस्तेमाल न करें जो जियादा बेहतर होगा ..

इसी तरह कविता और नज़्म में भी इसका ध्यान रखा जाए....जब तक ज़रूरी न हो..इसे दुबारा इस्तेमाल न करें...


+++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++

आज हम उर्दू और हिंदी में लिखी नज्मों और कविताओं के बारे में बात करेंगे ...एक छोटा परीची देना चाहूँगा जिस से हम इसके बारे में कुछ जान सके ।
विद्वानों के अनुसार उर्दू में कही गयी ....जो एक सब्जेक्ट पर कही जाए उसे...नज़्म का नाम दिया जाता है .....हिंदी में उसे कविता कहा जाता है ....जहां तक किस्मों का सवाल है ...इनमे भी फरक का अनुभव सामने आता है ......उर्दू में कही जाने वाली नज्मों को ...तीन भागों में बांटा गया है ...इसकी गहरायी में जाने की मैं ज़रुरत नहीं समझता...क्यों के अभी इसकी गहरायी की यहाँ ज़रुरत नहीं है ...और मुझे लगता है यहाँ लोगों को इसमें इंटेरेस्ट भी नहीं है

नज़्म

१..मसनवी
२..मर्सिया
३..कसीदा

१..मसनवी----ये साधारनतया रोमांटिक ..और धार्मिकता में कहा जाता और लिखा जाता है ।

२.. मर्सिया-----ये दुःख और एगोनी को प्रभावी तरीके से व्यक्त करने के लिए कही जाने वाली विधि है ।

३..कसीदा----ये किसी प्रभावी शक्सिअत के बारे में अत्यधिक रूचिकर तरीके से उसकी प्रंशसा करना और शब्दों से कहना ...और लिखा जाता है ।

कविता

कविता क्या है ?

ये हमारे काव्य भाग की एक विधा है ।
कविता ऐसा माध्यम है जिसे हम अपने मन की बात दूसरों तक पहुंचा सकें या सकते हैं ..और अच्छा कवी वही है जो अपनी बात उसी भाव में दुसरे तक बिना समझाए पहुंचा सके ...कविता से कवी की आत्मा का पता चलता है . वह इतनी गहरी चीज़ है की इसका पूरी तरह से समझना नामुमकिन सा है ...
अगर कविता में भावनाएं न हों तो वो सिर्फ तुकबंदी ही कही जायेगी ....सिर्फ कुछ मिसरे लिख दे से वो कविता कभी नहीं बन जाती ..।
आजकल कुछ शब्दों को जोडकर उल्टा सीधा लिखने को ही कविता मान लिया गया है ...ऐसा कतयी नहीं है ...कविता कहना कोई आसान काम नहीं है ....।

अब आते हैं जो हम जाने अनजाने लिख जाते हैं वो क्या होता है....हर इंसान के मन में कवी भावना होती है कोई लिख लेता है कोई लिख नहीं पाता....
इस बारे में बात करने से पहले हमें ये समजना होगा कि...कविता हमारी हिंदी भाग में किस कोष में आती है .....

गद्य--जो रचना छंदोंबद्ध न हो ..मतलब जो गयी न जा सके उसे गध्य कहते हैं ।
पद्य --जो रचना छन्दो में बाँध क्र लिखी गयी हो उसे पद्य कहते हैं ।
और यहाँ हम कविता जो पद्य में आती है उसी कि ही बात करेंगे ।

कविताओं का कुछ स्वरुप उस तरह होता है जिस तरह उर्दू में "नज़्म" का होता है

कविता --जो रचनाएँ कहानी से सम्बंधित होती हैं वो ग़ज़ल नहीं कविता होती है ।
मुक्तक--जो रचनायें स्वतंत्र होती हैं किसी कहानी से सम्बंधित नहीं होती वे मुक्तक कहलाती है ।जो किसी एक बात को चार मिसरों में पूरा करती है ।

कवितायें आजकल अकविता के रूप में भी उभर कर आ रही है ।

कवितायें कहना आसान नहीं है..ये मैंने इस लिए कहा के इनमे शब्द शक्ति का पर्योग होता है ..और जो अछि शब्द शक्ति पर्योग क्र लेता है उसकी कविता श्रेष्ट कविताओं में आती है ...शब्द शक्ति का ये मतलब नहीं के हमें ऐसे शब्द दूंदने हैं जो मुश्कुइल हों? बल्कि ऐसे शब्द से सुसज्जित होनी चाहिए जो सरल और प्रभावी हों ....जियादा मुश्कुइल शब्दों वाली रचना रचनाकार अपनी विद्या का भाखां करने के लिए ही करता है .....अछि कविताओं में उसका शुमार कभी नहीं हो सकता...जो कविता सरल रूप से सबकी समझ में आ जाये वही श्रेष्ट होती है ...

इन उदाहरणों को ध्यान से पढिये....

१. धोबी गधे पर भार लादता है ।

२. इन गधों के देमाग में कुछ भी नहीं बैठता ।

अब ऊपर कहे पहले वाक्य में गधे का अर्थ एक पशु विशेष से है ।
दुसरे वाक्य में 'गधे' से अर्थ 'मूर्ख' लिया गया है क्यों के पशु के दिमाग में कुछ समझने कि योग्यता नहीं होती ।


()()()()()()()()()())()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()(

शेर किसे कहते हैं एक नज़र दुबारा .......

शेर किसे कहते हैं ?

उत्तर ---शायरी के नियमों में बंधी हुई दो पंक्तियों कि ऎसी काव्य रचना को शेर कहते हैं जिसमें पूरा भाव या विचार व्यक्त कर दिया गया हो | 'शेर' का शाब्दिक अर्थ है --'जानना' अथवा किसी तथ्य से अवगत होना |

इन दो पंक्तियों में कवी अपने पूरे भाव व्यक्त कर देता है ...वो बाव अपने आप में पूर्ण होने चाहिए ..उन पंक्तियों को किसी और पंक्ति कि ज़रुरत नहीं होनी चाहिए ।

जैसे ये मेरी एक ग़ज़ल का मेरा एक शेर -----

"हुई यूँ ग़मों कि ये शाम आखिरी है
पहना दो कफन ये सलाम आखिरी आखिरी है ।"

अब इस शेर में एक सब्जेक्ट को पूरा कर दिया गया है इसमें कुछ और कहने को बाकी नहीं है ....।


^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^

ek baar- Ghazal-Nazm, sher-ashaar. rubaai, qata, ityaadi ka technical fark ....technically kya fark hai jaanna zaroori hota hai.



शेर और अशार का मतलब
किसी एक शेर के बारे में बात हो तो उसे शेर कहते हैं ...एक से जियादा शेरों को अशार कहते हैं ।

इसका पूरंत्या मतलब ये हुआ...के "शेर" शब्द एकवचन है ..और "अशार" शब् बहुवचन है ।

आपका अगला प्रश्न कत्ता और रुबायी ...और इन दोनों में क्या अंतर हैं ?...इसे समझाने की एक कोशिश हम कर के देखते हैं ..जो हमें मालूम है ....बाकी सभी ग्यानी लोगों के विचार भी यहाँ शोबित हों तो अच्छा लगेगा ....

कत्ते और रुबायी दोनों में चार ही मिसरे होते हैं और देखने में दो शेर ही लगते हैं ।

कत्ता :- चार मिसरे

कत्ते में एक मुकम्मल शेर होता है (मतला + शेर ) जो ज़यादातर एक ही ज़मीन पर होते हैं ....
जब शायर ..एक शेर में अपना पूरा ख्याल ज़ाहिर न कर पाए तो वो उस ख्याल को दुसरे शेर से मुकम्मल करता है ।

रुबायी :-....चार मिसरे

जबकि रुबायी में मिसरे तो चार ही होते हैं वो दो शेर नहीं होते वो चार मिसरे ही होते हैं और उसकी rhyming कत्ते की तरह ही होती है रुबायी में एक ही ज़मीन और ख्याल होता है और पूरा जोर चौथे मिसरे में ही होता है और रुबयी मुकम्मल चौथे मिसरे से ही होती है ।
रुबायी में -----
  रुबायी में एक और अहेम बात जो ध्यान् देने योग्य है जो चार मिसरे इसमें इस्तेमाल होते हैं इसमें तीसरे मिसरे को छोड़ कर बाकी सब में काफिया और रदीफ़ एक ही rhyming में होते हैं और तीसरा मिसरा आजाद होता है इन बदिशों से मुक्त होता है ।



&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&




यहाँ मैं एक और रूप की बात करूंगा....जो अपने नहीं पूछा ....उर्दू शायरी में एक पार्ट ...

कत्ता और रुबायी के इलावा "फर्द" का भी मैं यहाँ खुलासा कर देना चाहता हूँ >>>

फर्द क्या होता है ......

किसी शायर का ऐसा शेर जो तन्हा हो यानी किसी नज़्म या ग़ज़ल या कसीदे या मसनवी का पार्ट न हो ..उसे फर्द कहते हैं .....इसमें शेर के दोनों मिसरों का हम-काफिया होना ज़रूरी नहीं है ....

जैसे -----

काश ! इतनी तो रौशनी होती
अपने साए से गुफ्तगू करते ।

________________OOOOOO_____________

इसके साथ साथ दोस्तों....लगे हाथ कत्ते का दूसरा रूप ..जो हिंदी में कहे जाने वाले मुक्तक का है .......
कत्ते को ही हिंदी का मुक्तक कहा जाता है ।>>>जो अक्सर हम शायरी में कह दिया करते हैं .....
ये रुबायीँ और कत्ते आम चलते हैं .....

____________________एक मुक्तक

जब देखता हूँ सोचता हूँ दम सा घुटता है
ये मेरे अपने हैं अपनों से dr सा लगता है ।
दुश्मन तो होंगे दुश्मनी भी करेंगे बे-शक ,
न जाने अपनों से दुश्मनी का डर क्यों लगता है ।

हर्ष महाजन

________________

नीचे के लिंक पर क्लिक कीजिये और उस पर जाइए .....

1.
ग़ज़ल शिल्प ज्ञान --१
1.a
शिल्प-ज्ञान -1 a

3.
ग़ज़ल शिल्प ज्ञान --3
4.
ग़ज़ल शिल्प ज्ञान --4 ----कविता का श्रृंगार
5.
ग़ज़ल शिल्प ज्ञान --५ .....दोहा क्या है ?
6.
ग़ज़ल शिल्प ज्ञान --6
7.
ग़ज़ल शिल्प ज्ञान --7
8.
ग़ज़ल शिल्प ज्ञान --8
9.
ग़ज़ल शिल्प ज्ञान - 9
10.
ग़ज़ल शिल्प ज्ञान - 10
11.
ग़ज़ल शिल्प ज्ञान - 11
12.
ग़ज़ल शिल्प ज्ञान - 12





Friday, February 24, 2012

उसने मुझे अब रिहा करने कि बात की है

उसने मुझे अब रिहा करने कि बात की है
सच में मुझे बर्बाद करने कि बात की है ।
खेलता था जो हर-पल मेरी जुल्फों से कभी
आज खुद को उनसे जुदा करने कि बात की है ।

______________हर्ष महाजन

इन पत्थरों में ज़िन्दगी बिता रहा हूँ मैं

इन पत्थरों में ज़िन्दगी बिता रहा हूँ मैं
इस शहर को किस तरह चला रहा हूँ मैं ।
भूल गया की इस जहां का खुद खुदा हूँ मैं
खुद खुदायी छोड़ कर अब जा रहा हूँ मैं ।

_______________हर्ष महाजन

Thursday, February 23, 2012

मैंने शायरी में तुझे कभी नहीं खोया

मैंने शायरी में तुझे कभी नहीं खोया
जब से मिला हूँ अभी तक नहीं  सोया ।
चंद शेर जो फूटे हैं मेरे उन अहसासों से
ग़ज़ल से पहले मेरा वो हर शेर रोया ।

__________हर्ष महाजन

Wednesday, February 22, 2012

कुछ इस अंदाज़ से बिखरी है हर्ष-ए-हस्ती

कुछ इस अंदाज़ से बिखरी है हर्ष-ए-हस्ती
दिमाग-ओ-दिल नहीं हैं आजकल अपने ठिकाने में ।

ले रही है इम्तिहान मेरी वफ़ा-ए-मोहब्बत
काबू नहीं ये दिल अब उतर चुका है मैखाने में ।

__________________हर्ष महाजन

नादाँ है बे-सबब अपने शब्द संवार कर चला जाता है

नादाँ है बे-सबब अपने शब्द संवार कर चला जाता है
हम-कलम कुछ भी लिखे दरकिनार कर चला जाता है ।
राज-ए-दिल ले लेता है यूँ के जोर-ए-कलम इक है वही
इस तरह वो सबके दिल तार-तार कर चला जाता है ।

_________________________हर्ष महाजन

सफ़र दर सफ़र परख रहा हूँ मैं

सफ़र दर सफ़र  परख रहा हूँ मैं
मंजिल दर मंजिल तलख रहा हूँ मैं
खुशनसीब हूँ मैं ऐ गम-ए-जाना 
इक मुद्दत से तेरी तलब रहा हूँ मैं ।

______हर्ष महाजन

तो चंद आंसू आज मैं भी तुम्हे पेश करता हूँ

सलीका हो भीगी पलकों को पढने का
तो चंद आंसू आज मैं भी तुम्हे पेश करता हूँ ।
हुनर हो किसी के दिल को परखने का
तो ये दिल आज मैं भी तुम्हे पेश करता हूँ ।
अगर शक ही तारी है सर पे  तुम्हारे  ऐ 'हर्ष'
ये सर भी आज सर-ए-बज़्म  तुम्हे पेश करता हूँ ।

______________हर्ष महाजन

Tuesday, February 21, 2012

क्षणिका _______एक बुढ़िया

ये
खँडहर भी
कभी
एक बुलंद इमारत
हुआ करती थी
एक बुढ़िया !!

हर्ष महाजन 

क्षणिका

वो
उस मकान के
सहारे है !

जिसमे
रेत की दीवारे हैं !!


हर्ष महाजन

आजकल के दौर में अब मर्ज़ क्यूँ बरसते हैं

आजकल के दौर में अब मर्ज़ क्यूँ बरसते हैं
दौलत-मंद लोगों का पैसा निकलने के रस्ते हैं ।

किसी के बोझ को अपने दिल पे क्यूँ लिए जाते हो
अपने अपने हौंसिले हैं अपने अपने बसते हैं ।

_________________हर्ष महाजन

साँसों पे इतना गरूर न करो के बे-वफायी पे उतर आयें

साँसों पे इतना गरूर न करो के बे-वफायी पे उतर आयें
इश्क जब रुलाने पे आये तो ये अपनी हद्द से गुजर जाएँ ।

_______________________________हर्ष महाजन

Monday, February 20, 2012

मोहब्बत रंग लाती है दिल से दिल मिलने के बाद


मोहब्बत रंग लाती है दिल से दिल मिलने के बाद
फिर दे जाती है ज़ख्म पल में दिल छलने के बाद

पैमानों की इल्लत है जो नूर को बे-नूर बना देती हैं
नशा काफूर हो जाता है इक बे-वफ़ा सुनने के बाद ।


___________________हर्ष महाजन

kahaaN kahaaN ye duniyaaN tumeh nazer aati hai

kahaaN kahaaN ye duniyaaN tumeh nazer aati hai
JhareiNge gar ashq wahi duniyaaN sambhal jaati hai
Ye bhrahm hai insaan ka dooje meiN sabkuch dekhe
Achhe achhoN ke damm gam meiN fiscal jaate haiN.

__________________________Harash Mahajan

करीब आ रही है अब शाम ज़िन्दगी की

करीब आ रही है अब शाम ज़िन्दगी की
ज़िन्दगी सम्बालो कहीं ये बदल न जाए ।

_______________हर्ष महाजन

मुझको मेरी उन वफाओं का हिसाब ले लेने दे

मुझको मेरी उन वफाओं का हिसाब ले लेने दे
मेरे कुछ अनकहे सवालों का जवाब ले लेने दे ।

न कह अलविदा अभी अपनी ज़िन्दगी से मुझे
कुछ शेर कहे हैं तेरे लिए वो किताब ले लेने दे ।
गुनगुनाने दो मुझे मेरे तलख शेरों को कुछ देर
उनकी हसीं आँखों से उबलते ख्वाब ले लेने दे ।

पेशानी पे जो दाग दिए तूने नज़र तो नहीं आते
छुपाया जो तूने बे-वफायी का खिताब ले लेने दे।

सोने से पहले ऐ दिल मेरी इल्तजा है तुझ से
शाम-ए-ज़िन्दगी से पहले कुछ शबाब ले लेने दे ।


___________________हर्ष महाजन

Saturday, February 18, 2012

वो और हैं जो इश्क को फ़क़त इश्क जानते हैं

वो और हैं जो इश्क को फ़क़त इश्क जानते हैं
लज्जत-ए-इश्क है क्या 'शै' जिसे हम जानते हैं ।

इश्क को फ़क़त इश्क करने वाले ही जानते हैं
रंगीन-मिजाजी वाले भला इसे कहाँ मानते हैं ।

____________________हर्ष महाजन

तेरी हसरतों से जियादा तो नहीं है मेरी हसरत ऐ मेरे दोस्त

तेरी हसरतों से जियादा तो नहीं है मेरी हसरत ऐ मेरे दोस्त
मगर दुआओं से जो सकूं मिलता है न मिले तो गिला देना

_______________________हर्ष महाजन

मोहब्बत का तर्जुमा तो करे कोई

मोहब्बत का तर्जुमा तो  करे कोई 
उसका रंग क्या है कुछ तो भरे कोई

गली-गली घुमते हैं दिल-फ़ेंक आशिक
बदलें चाहने वाले यूँ हों मस्करे कोई ।


____________हर्ष महाजन  

Wazib nahiN hai be-wafaoN ko Goli se yuN udaa dena



Wazib nahiN hai be-wafaoN ko Goli se yuN udaa dena
Taasir-e-Ghazal tamaam hogi tamaam hoga hawa dena

Kab tak jeeyeNge be-khatak mohabbat ko paane waale
ya-Khuda unhe wafa dena... kabhi na be-bewafa dena.

_______________________________Harash Mahajan